Photo Gallery

 Audio Gallery

   States / Prants

  Finance

Some Useful Articles

  More lnformation

  BVP in the News

  States' Publications

 News from the Branches

 Feedback 
  Website Contents 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

 


Celebrations of Swaran Jayanti of BVP & 150th Birth Anniversary of
Swami Vivekananda

 

Swami Vivekananda 

Swami Vivekananda’s Address in Chicago,1893  

Quotes  

Statues of Swami Vivekananda

Click here for list of Members of National Celebration Committee of Golden Jubilee of BVP and 150th Birth Anniversary of Swami Vivekananda

Click here for Programme of Celebrations of Swaran Jayanti of BVP and 150th Birth Anniversary of Swami Vivekananda


 


भारत विकास परिषद् स्वर्ण जयन्ती
माननीय डॉ॰ सूरज प्रकाश द्वारा 1963 में स्थापित भारत विकास परिषद् सम्पर्क, सहयोग, संस्कार, सेवा और समर्पण के पांच सूत्रों का प्रयोग करते हुए एक विशाल वट वृक्ष का रूप धारण कर चुकी है। परिषद् ने एकात्म मानववाद अंगीकृत करते हुए सम्पर्क में आत्मीयता, सहयोग में एक और एक ग्यारह, सेवा में कर्त्तव्य भावना, समर्पण में तन, मन, धन की क्षमतानुसार क्रियाशीलता और दानशीलता एवं संस्कारों के स्थापन में ‘‘सर्वे भवन्तु सुखिनाः’’ का भाव निहित करते हुए सशक्त, समृद्ध व अखंड भारत के निर्माण की कल्पना को साकार करने का प्रयत्न किया है।

स्वतंत्र भारत में जन्मी लगभग 70 प्रतिशत जनसंख्या नवयुवक है। इतिहास में संजोये स्वतंत्रता संग्राम के बलिदान उनकी स्मृति में हैं। परम पूज्य डॉ॰ हेडगेवार जी कहते थे, ‘हमारे देश में बल, बुद्धि, धर्म, धन, संस्कृति किसी बात की कमी नहीं थी फिर भी देश पराधीन हुआ .....दुर्बलता महापाप है कोई भी समाज दुर्बल न रहे तो यह विश्व शान्तिपूर्वक चलेगा।’ युवा पीढ़ी इस सिद्धांत को समझ चुकी है और ‘जय विज्ञान’ की गूंज समाहित कर चुकी है। आधुनिक भारतीय शिक्षा ‘ज्ञान विज्ञान विमुक्तये’ और राष्ट्रीय सुरक्षा ‘बलस्य मूलम् विज्ञानम्’ के सिद्धांतों पर आधारित है। हम विश्व की सबसे बड़ी वैज्ञानिक और तकनीकी शक्तियों में से एक हैं। सूचना प्रौद्योगिकी की अग्रणी पंक्ति में हैं। नाभिकीय शक्ति से युक्त जल, थल और आकाश में हमारी उपस्थिति है और हम चन्द्रमा पर भी उतरने के लिए तैयार हैं।

युवा पीढ़ी दूरगामी योजनाओं के साथ अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ व स्थायी बनाते हुए आधुनिक भारत के निर्माण के लिए तत्परता से प्रयत्नशील है। औद्योगिकीकरण से पर्यावरण की भयावह स्थिति से भी अवगत है। प्राकृतिक दुर्घटनाओं से चिन्तित है और यह समझ रही है कि हम प्रकृति का उतना ही उपयोग करें जितनी हमें आवश्यकता है। सारांशतः हम ‘उतिष्ठत जाग्रत’ सिद्धांत को समझ सभी परिस्थितियों में राष्ट्र उत्थान के लिए दृढ़ संकल्प हैं।

यह निश्चित् है कि बिना विज्ञान एवं तकनीकी के गौरवमय भारत की स्थापना कठिन है। पर यह भी सत्य है कि भारतीय मूल्यों को अंगीकृत किए बिना हम अपनी पहचान नहीं बना सकते। अतः आज आवश्यकता है आधुनिक वैज्ञानिक युग के भारत के परिप्रेक्ष्य में परिषद् द्वारा 5 दशकों के सेवा व संस्कार के कार्यो की संख्यात्मक व गुणात्मक विश्लेषण की सही दिशा एवं मार्ग निश्चित् करने की और उस मार्ग पर पूरी तैयारी के साथ चलने की।

आइए, हम चिंतन करें कि समाज चेतना एवं राष्ट्र चेतना का भाव समाज में कहाँ तक स्थापित कर पाए। हमारा आचरण कहाँ तक अनुकरणीय बन पाया, हमारी विशिष्ट पहचान समाज ने कहाँ तक स्वीकार की। ‘नर सेवा-नारायण सेवा’ को कर्त्तव्य भावना से निर्वाहित करते हुए, समाज को संस्कार कार्यक्रमों के द्वारा कहाँ तक प्रभावित कर पाए। चिर भारतीय संस्कृति को पुनः स्थापित करने और भावी पीढ़ी के प्रेरणा स्रोत बनने में हम कहाँ तक पहुँचे। अनुशासन, निःस्वार्थ सेवा और त्याग भावना के मापदंडों में हमारी क्या स्थिति है, यह परिषद् के प्रत्येक सदस्य के लिए आत्म चिंतन व आत्म विश्लेषण का विषय है। आइए हम सब इन विषयों पर चिंतन एवं विचार विमर्श करें और उत्तिष्ठत जाग्रतय् की कल्पना को साकार करें।

- सत्य प्रकाश तिवारी, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष

                                                                                                                      

 

 

विवेकानन्द’ भीलवाड़ा, राजस्थान मध्य : शाखा द्वारा वर्ष भर आयोजित होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों की शृंखला में स्वामी जी के विचारों को जन-जन तक पहुँचाने के उद्देश्य को लेकर उनके नये पोज व स्लोगन लिखे पोस्टरों का सभी शाखाओं के पदाधिकारियों व सदस्यों में वितरण किया गया। जिलाध्यक्ष कैलाश अजमेरा ने बताया कि अभी तक करीब 700 पोस्टरों का वितरण किया जा चुका है। 100 तुलसी के गमले एवं 50 विभिन्न किस्मों के पौधे वितरित हो चुके हैं। तुलसी के गमलों व पौधों के साथ-साथ ‘तुलसी के चमत्कार’ लिखित पुस्तिका एवं स्वामी विवेकानन्द के साहित्य भी वितरित किये गये।

तलवाड़ा, पंजाब उत्तर : एस॰डी॰ सर्वहितकारी विद्या मन्दिर में एक सैमीनार प्रो॰ एस॰एम॰ शर्मा, अतिरिक्त महासचिव उत्तर क्षेत्र की अध्यक्षता में आयोजित किया गया। इसमें करीब 400 स्कूली बच्चों, अध्यापकों तथा पदाधिकारियों ने भाग लिया। संरक्षक प्रिं॰ देश राज शर्मा एवं अध्यक्ष जे॰बी॰ वर्मा ने स्वामी जी के जीवन पर प्रकाश डाला।

हाजीपुर : 6 सितम्बर को सर्वहितकारी सी॰सै॰ विद्या मन्दिर के प्रांगण में युग पुरुष स्वामी विवेकानन्द के जीवन पर निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। प्रधानाचार्या श्रीमती सुनीता सूद ने अध्यक्षता की। परिषद् की ओर से कार्यकारिणी प्रधान धर्मपाल शर्मा, प्रकल्प प्रधान सुरेन्द्र मोहन शर्मा आदि उपस्थित थे।

मसूरी, देहरादून, उत्तराखण्ड पश्चिम : एम॰डी॰डी॰ए॰ द्वारा बनाये गये पार्क में विवेकानन्द की मूर्ति का शिलान्यास व पार्क के नामकरण के लिये परिषद् द्वारा प्रयास किया गया। इस अवसर पर पूर्व विधानसभा अध्यक्ष व विधायक श्री हरबंस लाल कपूर मुख्य अतिथि रहे। अपने सम्बोधन में उन्होंने कहा कि कॉलोनियों में पार्को के सौंदर्यकरण के लिए अथक प्रयास किए गए हैं। एम॰डी॰डी॰ए॰ उपाध्यक्ष श्रीमती मीनाक्षी सुंदरम् ने कहा कि संस्था के सहयोग से ही कार्यक्रम सफल हो पाया हैं। उन्होंने संस्था की ओर से उत्तरकाशी में भेजे जा रहे कम्बल की मदद को भी प्रशंसनीय बताया। संचालन श्रीमती डौली डबराल ने किया। संस्था का परिचय श्री जगदीश बाबला ने तथा स्वामी विवेकानन्द जी के बारे में श्रीमती अरुणा अद्लखा ने बताया। स्वागत सम्बोधन में श्रीमती सविता कपूर ने कहा संस्था का लक्ष्य स्वामी विवेकानन्द की 150वीं वर्षगांठ के अवसर पर पूरे देश में मूर्ति स्थापना व प्रमुख स्थानों का नाम विवेकानन्द जी के नाम पर रखने का लक्ष्य रखा है। श्रीमती मीनाक्षी सुन्दरम् की सहमति व सहयोग के लिये हम उनका धन्यवाद करते है। प्रान्तीय अध्यक्ष मनोज गोयल व उपाध्यक्ष अरुण ने भी अपने विचार रखे। श्री मनोज गोयल ने कहा कि उत्तरकाशी में आई प्राकृतिक आपदा के लिये संस्था द्वारा 1000 कम्बल भेजे जायेंगे। क्षेत्रीय कैन्ट बोर्ड सदस्य कमल राज व ओम प्रकाश गुप्ता उपस्थित रहे।

Thiruvananthapuram, Kerala : As a part of our celebration of Swami Vivekanand's 150th birth anniversary, the Prant conducted a Quiz competition for school children from classes 8th to 12th on 15th July 2012 at Chinmaya Vidyalaya, Trivandrum. 34 students from 17 schools in and around the city participated. Parents and teachers were also present. Shri Pratap Chandran was the quiz master. Cash prizes and certificates were presented to the winners and participants.

Pittsburgh, USA : India’s 65th Independence Day was celebrated abroad on August 12th at Cathedral of Learning, University of Pittsburgh. On this occasion a special programme on Swami Vivekanand was also organised by the people of Pittsburgh. There was a parade followed by meeting and cultural programme and most of the Indian community of Pittsburgh participated in it. Mr. S.S. Asthana, National Vice President, B.V.P and Mrs. Usha Asthana, National Secretary, B.V.P attended with their daughter’s family. The meeting was presided over by the Chancellor, University of Pittsburgh and Swami Bhaskaranand of Ramakrishna Vedanta Ashram. The later spoke about Swami Vivekanand’s contribution to freedom movement of India. Mr. & Mrs. Asthana intermingled with the attendees and informed them about BVP and it’s various projects in India, including organising of programmes in India in honour of Swami Vivekanand on his 150th Birth Anniversary.

(Niti: Nov., 2012)


स्वारगेट (पुणे) महाराष्ट्र-II : 12 अगस्त को ज्ञान प्रबोधिनी बी॰-एड॰ कॉलेज में स्वारगेट और सहयोगी शाखाओं (महिला, युवा और मगरपट्टा) की ओर से एक भव्य समारोह का आयोजन हुआ। स्वामी जी की प्रतिमा का अनावरण और स्वामी विवेकानन्द अभ्यासिका तथा वाचनालय का उद्घाटन और हमारे मुख्य संरक्षक श्री प्रवीण भाई दोशी का ‘समर्पण सोहला’ यह तीन कार्यक्रम बहुत ही बड़े पैमाने पर मनाये गये। उद्घाटन श्री सुरेन्द्र कुमार वधवा, कार्यक्रम अध्यक्ष श्री रविन्द्र पाल शर्मा, प्रमुख वक्ता, श्री वीरेन्द्र याज्ञिक, विशेष अतिथि सौ॰ वैशाली बनकर महापौर पुणे प्रमुख अतिथि के रूप में विद्यमान थे। मुम्बई से श्री सम्पत खुर्दिया, श्री गग्गर और श्री नीरज गुप्ता सम्माननीय अतिथि के रूप में पधारे थे। सभी प्रमुख अतिथियों का ‘पुणेरी पगड़ी और उपरणे’ देकर सम्मान किया गया। प्रवीण भाई दोशी को 75 साल पूरे होने पर `21000/- की थैली समर्पित की गयी। उन्होंने निःस्पृहता से वही थैली स्वारगेट शाखा को वापस दान दे दी। इसके साथ ही विवेकानन्द के जीवन पर आधारित निबंध स्पर्धा हुई। 550 बच्चों ने इसमें भाग लिया। प्रथम, द्वितीय तथा तृतीय और सान्त्वना पुरस्कार के रूप में ऐसे 10 बच्चों को विशेष अतिथियों के कर कमलों द्वारा ट्रॉफी देकर सम्मानित किया गया। प्रमुख वक्ता श्री वीरेन्द्र याज्ञिक ने विवेकानन्द जीवन चरित पर 15 मि॰ तक बहुत ही अच्छी जानकारी दी। शाखा सचिव डॉ॰ उदिता शाह ने सत्र संचालन किया। शाखा अध्यक्ष श्री पोपटलाला शिंगवी और श्री रत्न माली, (मगरपट्टा शाखा) ने प्रास्तविक किया। सौ॰ रत्ना चौधरी (महिला शाखा) ने आभार प्रदर्शन किया। वर्षा के दिनों में भी 650 लोगों की उपस्थिति सराहनीय थी। अतिथियों के आगमन पर ढोल, लेजियम पथक के साथ उनका जुलूस भी निकाला गया।

Dr. Kitchlu, Ludhiana, Punjab North : A function was organized in the premises of BVP Viklang Sahayata Kendra, Ludhiana on July 15, 2012. Dr. DRC Bakhetia, State Convener (Health Care) welcomed the guests and gave a brief but informative account of BVP foundation day (July 10, 1963) its aims & objectives and projects/programmes taken up through out the year. In his presidential address, Dr. Rajesh Mannan State Vice-President gave an interesting talk on Life and teachings of Swami ji. Suman Aggarwal, Vice-Chairman of Swami Vivekanand study circle narrated several interesting and educative events from the life of Swami ji. A series of talks and cultural items related to Swami ji's contributions was presented by the branch members and their children. Sh. Ravinder Mittal said that Development of youth and women empowerment were very close to Swami ji's heart. Suman Gupta, Distt. Secretary, Ludhiana emphasized the need of curbing the twin social evils of female feticide and dowry.

Pathankot : To commemorate the 150th birth Jayanti of Swami Vivekanand, a declamation contest was held on 21st May 2012 at Arya Sr. Sec. School (Boys.) A large gathering of 12 schools participated. Prizes were given to the first three winners.

Pittsburgh, USA : Celebrating 150th Birth Anniversary of Swami Vivekanand India’s 65th Independence day was celebrated abroad on August 12th at Cathedral of Learning, University of Pittsburgh. On this occasion special programme on Swami Vivekanand was also organised by the people of Pittsburgh. There was a parade followed by meeting and cultural programme and most of the Indian community of Pittsburgh participated in it. Mr. S.S. Asthana, National Vice President, B.V.P and Mrs. Usha Asthana, National Secretary, B.V.P attended with their daughter’s family. The meeting was presided over by the Chancellor, University of Pittsburgh and Swami Bhaskaranand of Ramakrishna Vedanta Ashram. The later spoke about Swami Vivekanand’s contribution to freedom movement of India. Mr. & Mrs. Asthana intermingled with the attendees and informed them about BVP and it’s various projects in India, including organising of programmes in India in honor of Swami Vivekanand’s 150th Birth Anniversary.

(Niti: Oct., 2012)


भारत विकास परिषद ने शहर में निकाली रैली
जागरण; 11 Sep, 2012
ऐलनाबाद : भारत विकास परिषद की ओर से स्वामी विवेकानंद द्वारा 119 वर्ष पहले शिकागो में दिए गए भाषण की वर्षगाठ पर मंगलवार को युवा जागृति रैली निकाली गई। रैली में शहर के विभिन्न स्कूलों के 240 विद्याíथयों ने भाग लिया।

मंगलवार को यह रैली शहर के टिब्बी चौक से प्रारभ हुई जिसे एसडीएम प्रभजोत ¨सह ने हरी झडी दिखाकर रवाना किया। शहर के मुख्य बाजार से होती हुई यह रैली अनाजमंडी में जाकर संपन्न हुई। इससे पूर्व स्कूली बच्चों को संबोधित करते हुए एसडीएम प्रभजोत ¨सह ने कहा कि युवा शक्ति ही राष्ट्रशक्ति है।

परिषद अध्यक्ष चंद्रप्रकाश सोनी ने बताया कि भारत विकास परिषद देश भर में स्वामी विवेकानंद के 150 वें जन्मवर्ष के उपलक्ष्य में विभिन्न सास्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन कर रही है। इसी कड़ी में स्वामी विवेकानंद द्वारा अमेरिका के शिकागो शहर में 11 सितंबर 1893 को दिए गए ऐतिहासिक भाषण की याद में इस रैली का आयोजन किया गया।

रैली में शहर के नचिकेतन पब्लिक स्कूल, सर्वपल्ली पब्लिक स्कूल, हरपाल ¨सह कान्वेंट स्कूल, निवेदिता सीनियर सेकेंडरी स्कूल व डीएवी सेन्टेनरी स्कूल के विद्याíथयों ने भाग लिया। इस अवसर पर परिषद सचिव रामकिशन कंबोज, कोषाध्यक्ष संजय कानसरिया, केसी छापोला, भोजाराम मेहता, डा. सुरेद्र गुप्ता, नवीन कानसरिया, सुलतान हरडू, जयप्रकाश ममेरीवाला, सूर्यप्रकाश टाटिया, बलवंत सहारण, मदन जैन, हरि लढा, मोहनकामरा, रघुवीर जोसन, मालचंद मित्तल, पवन ¨जदल, नरेद्र सपरा, डा. चंदूलाल चान्दोरा, संदीप सचदेवा, मुकेश चौधरी, मंजीत धींगड़ा, मदन मोहन टाटिया, नरेद्र ¨सह वडैच व सुरेद्र सरदाना आदि मौजूद थे।

लेख पढ़ें 


Bharat Vikas Parishad and PGGCG jointly organised an Elocution Competition
The Indian Post; 30  August, 2012

Chandigarh : Bharat Vikas Parishad, a nationally acclaimed NGO and Literacy Society of the Post Graduate Govt College for Girls, Sector 42C Chandigarh today organised an "Elocution Competition on the life of Swami Vivekanand and his Ideas" at the college premises which was well attended by over 200 students. Shortlisted I5 students participated in this competition and spoke on the following topics including Swamiji’s ideas of Awakening India, Swami Vivekanand’s Vision & Corporate Social Responsibility, Swami Vivekanand  - A Role Model for Youth of India and Relevance of Swami Vivekanand in today’s contest.

All participants spoke in detail on preaching of Swami Vivekanandji and encouraged the students in audience to follow the preaching of Swamiji which will help them to groom in life and will make them a more successful and acceptable person in the society. Rupali and Mudita spoke on Swamiji’s ideas of Awakening India were declared the winners while Ruchi and Meenakshi deliberated her views on Swami Vivekanand’s ideas of Value Education were runner up.

The winners were awarded by Sh. S.P. Tiwari, National Working President of Bharat Vikas Parishad and the former Vice Chancellor from Gwalior University.

Sh. S.C. Gilhotra, Vice President (Punjab East) of Bharat Vikas Parishad informed the audience about the activities of Bharat Vikas Parishad and also informed that the year is being celebrated 150th Anniversary year of the life of Swami Vivekanandji. The Bharat Vikas Parishad is organizing elocution contents and eassay writing competitions on the life of Swami Vivekanandji in every part of the country. Ms Suman Ghandi Convenor Literacy society of PGGCG Sector 42 Chandigarh and R.K. Moudgil, President, Bharat Vikas Parishad, Chandigarh presented the vote of thanks.

वीर सावरकर, (ग्वालियर) मध्य भारत उत्तर : 13.05.2012 को स्वामी जी के 150वीं जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में शाखा द्वारा जीवाजी क्लब के साथ मिलकर संयुक्त रूप से शिविर का आयोजन किया गया। शिविर का उद्घाटन राष्ट्रीय मंत्री विस्तार अजय बंसल के कर कमलों द्वारा किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से कांग्रेस कमेटी के सदस्य एवं प्रदेश महामंत्री अशोक सिंह, विकास रत्न राधाकिशन खेतान, सचिव विनोद गर्ग उपस्थित थे। कार्यक्रम में 30 यूनिट रक्त एकत्रित किया गया। 20.05.2012 को प्रान्त द्वारा आयोजित कार्यशाला में शाखा अध्यक्ष संजय गुप्ता, सचिव विनोद गर्ग, कोषाध्यक्ष सीताराम गर्ग, (सम्पर्क प्रमुख) व प्रान्तीय संयोजक उपस्थित थे। कमलाराज अस्पताल में एक शीतलजल सेवा वाटर कूलर लगवाया गया। लोकार्पण केशव दत्त गुप्ता राष्ट्रीय संयुक्त महामंत्री ने किया। 27.05.2012 को वीर सावरकर जयन्ती पर वीर सावरकर जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया तथा इसके उपरान्त शर्बत शीतल रूह-अफजा का वितरण किया गया। श्री अरुण डागा व शाखा संरक्षक डॉ॰ श्रीप्रकाश लोहिया विशेष रूप से उपस्थत थे।

अलीगढ़, ब्रज प्रदेश : स्वामी जी के उत्तराशताब्दी वर्ष पर आयोजित कार्यक्रम की शृंखला में शाखा ने आवास विकास कॉलोनी सासनी गेट स्थित विवेकानन्द पार्क में स्थापित स्वामी जी की मूर्ति स्थल पर एक कार्यक्रम आयोजित किया। सर्वप्रथम राष्ट्रीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति श्री विष्णु सदाशिव कोकजे ने स्वामी जी की मूर्ति पर भव्य पुष्पहार डाला। इसके बाद वित्त मंत्री डॉ॰ के॰ एल॰ गुप्ता, रा॰ चेयरपर्सन महिला सहभागिता श्रीमती सावित्री वाष्र्णेय, जोनल संरक्षक इं॰राघवेन्द्र वार्ष्णेय, कोषाध्यक्ष डॉ॰ ब्रजेश कुमार सक्सेना ने स्वामी जी की मूर्ति पर पुष्प अर्पित किये। न्यायमूर्ति श्री कोकजे ने पार्क में दो पौधों का रोपण भी किया।

राँची, झारखण्ड : स्वामी जी की 150वीं जयन्ती के अवसर पर राजकीय मध्य विद्यालय करमटोला में भाषण प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि विवि के एम॰बी॰ए॰ विभाग के निर्देशक प्रो॰ एस॰एन॰एन दास उपस्थित थे। भाषण प्रतियोगिता में प्रथम स्थान नेहा कुमारी कक्षा आठ को मिला दूसरा गुंजा महतो कक्षा सात और तृतीय स्थान अमित स्वासी कक्षा आठ को मिला।

सुनाम, पंजाब पूर्व : 2 जून को पंजाब पुलिस के सहयोग से स्वामी जी की शताब्दी को समर्पित नशा मुक्ति जागृति अभियान का शुभारम्भ शिशु भारतीय मण्डल हाई स्कूल के प्रांगण में किया गया। समारोह के मुख्य अतिथि जिला प्रभारी नशा मुक्ति अभियान तथा जिला ट्रैफिक प्रभारी गगनदीप सिंह भुल्लर व विशिष्ट अतिथि इंस्पैक्टर श्री केवल सिंह पंजाब पुलिस रहे। इस अवसर पर लगभग 200 बच्चों ने किसी भी प्रकार का नशा न करने की शपथ ग्रहण की।

कार्यकारिणी की एक अहम मीटिंग प्रधान यादविन्द्र भारद्वाज की अध्यक्षता में हुई, जिसमें शहर में बढ़ रही गंदगी, ट्रैफिक प्रदूषण, पानी की बर्बादी जैसी समस्याओं को रोकने के लिए चर्चा हुई। जुलाई महीने में स्वामी जी के जन्म शताब्दी वर्ष को समर्पित रक्तदान शिविर भी लगाया गया।

अमृतसर मेन, पंजाब उत्तर : शाखा स्वामी जी के जन्म शताब्दी के उपलक्ष्य में पूरा वर्ष उत्तरशताब्दी 150 वर्ष के रूप में मना रही है। इस उपलक्ष्य में जगत ज्योति स्कूल महासिंह गेट नीयर बस स्टैण्ड में निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। बच्चों द्वारा ‘क्या आप युवा हैं’?, ‘युवा भारत, ‘आधुनिक भारत का युवा वर्ग’, ‘अनुशासन प्रिय युवा वर्ग का भविष्य’, ‘उत्कृष्ट भारत’ आदि विषयों पर निबंध लिखे गए। सभी बच्चों को सम्मानित किया गया।

गुरदासपुर : स्वामी जी की 150वीं जन्म शताब्दी को समर्पित एक भाषण प्रतियोगिता स्थानीय धन देवी डी॰ए॰वी॰सी॰सै॰ स्कूल में करवाई गई। इस प्रतियोगिता में सीनियर वर्ग में शिवम् खन्ना, रजत तथा जूनियर वर्ग में साक्षी राणा, अनु व चैलसी को सम्मानित किया गया। स्वामी जी के जीवन परिचय, उनके विचारों और उनके कार्यों व शिक्षाओं को बच्चों ने बड़े ही सुन्दर ढंग से प्रस्तुत किया। जन्म शताब्दी समारोह गीता भवन स्कूल में आयोजित किया गया। जिसमें बच्चों ने बहुत ही सुन्दर ढंग से स्वामी जी के जीवन के बारे में अपने-अपने विचार प्रस्तुत किये। प्रिंसिपल सत्यपाल गुप्ता संरक्षक तथा प्रिंसिपल प्रेम खोसला प्रधान भारत विकास परिषद् ने बच्चों को स्वामी जी के जीवन से प्रेरणा लेने की शिक्षा दी। विजेताओं को परिषद् की ओर से पुरस्कार भी दिये गये।

रोहिणी, दिल्ली उत्तर : 10.06.2012 को दुर्गा मन्दिर सैक्टर 1 रोहिणी में विवेकानन्द व हकीकत राय शाखा ने परिवार मिलन के कार्यक्रम में भू्रण हत्या, ड्राईंग प्रतियोगिता, मेधावी छात्र सम्मान, शिक्षक सम्मान कार्यक्रम आयोजित किये। भू्रण हत्या पर 10 छात्राओं, महिलाओं व पुरुषों ने अपने वक्तव्य दिये। 5 से 8 कक्षा तक स्वामी जी के चित्र में रंग भरो, 9 से 12 कक्षा तक भारत के नक्शे में देश के राज्यों के नाम व उन की राजधानी भरना प्रतियोगिता में 137 बच्चों ने भाग लिया। 10वीं व 12वीं के 90% से अधिक अंक प्राप्त करने वाले 40 विद्यार्थी सम्मानित किये गये। पुरस्कार में विवेकानन्द साहित्य व प्रमाण पत्र वितरित किये गये। 27 शिक्षकों को पटका व साहित्य दे कर सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि सत्यवती, निगम पार्षद पुष्पा सोलंकी, विशिष्ट अतिथि विम्मी अरोड़ा व संजीव तथा डॉ॰ विजया प्रभा रहीं।

Maharashtra Costal-I : 31st May being the date for embarkation of journey by Swami Vivekanand for Chicago, Borivali branch installed a photo of Swami ji in the library maintained by the branch. Anavaran was done by Shri Gopal Shetty (MLA,) and Shri Mohan Bhai Mith Bhavkar (Deputy Mayor of Mumbai.) Shri Karuna Shankar Ozha (President of Sanskriti Samavardhan Trust.) Shri Sitaram Pareek (National Controller of Account,) Shri Virendra Yagnik (National Secretary Swarna Jayanti Samaroh,) Shri Sampat Khurdia, National Secretary, Shri Bhimsen Goel (President) and many other dignitaries from state and branch members and students were present. 

(Niti: Aug., 2012)


नाटक के माध्यम से विवेकानंद के जीवन पर प्रकाश डाला
जागरण; 07 Aug 2012
फतेहाबाद : भारत विकास परिषद् द्वारा स्वामी विवेकानंद उत्तर शताब्दी समारोह में परवाज कला मंच के कलाकारों ने स्वामी विवेकानंद के जीवन पर आधारित नाटक मंचन कर स्वामी जी के रूप को एक बार पुन: जीवंत कर दिया। कलाकारों की प्रस्तुति पर उपस्थित लोगो ने तालिया बजाकर उनका अभिनंदन किया।

अरोडवंश धर्मशाला में आयोजित कार्यक्रम का शुभारभ युवा काग्रेस नेता आनंदवीर गिल्लाखेडा ने बतौर मुख्य अतिथि किया जबकि अध्यक्षता परिषद् के पूर्व प्रातीय अध्यक्ष डॉ. वासुदेव बंसल ने की। नगर परिषद् चेयरमैन वीरेंद्र नारग, समाजसेवी चंद्रभान मुंजाल, लीलाकृष्ण मंत्री, राधेश्याम नारग, बंटी सहदेवडा, हरदयाल चराईपौत्रा, मधु मालती व कुलवंत जागडा बतौर विशिष्ट अतिथि थे। सोनीपत मुरथल यूनिवर्सिटी के लेक्चरार डॉ. सुधीर गर्ग बतौर मुख्य वक्ता उपस्थित थे। डॉ. गर्ग ने स्वामी विवेकानंद के जीवन पर प्रकाश डाला।

नाटक के माध्यम से परवाज कला मंच के कलाकारों ने स्वामी विवेकानंद की जीवन को साकार करते हुए दिखाया कि किस तरह स्वामी जी के पिता की मौत होने के बाद स्वामी जी को जीवन की सच्चाइयो से रूबरू होना पड़ा तथा यहीं से ही उनके जीवन में बदलाव आया और परमात्मा की खोज में चल पडे़ और उनका मिलन रामकृष्ण परमहस से हुआ और उनके ब्रह्मलीन होने के बाद स्वामी विवेकानंद ने शिकागों में जाकर जिस तरह का उद्धबोधन दिया जिससे विदेशों में भारत के प्रति लोगों की विचारधारा बदली। अन्य किरदारों को स्वाति, राधे, सतपाल, सतीश, कुलदीप, राकेश, मुकेश और डिपल ने निभाया। नाटक मंचन में शिवकुमार शिवा, राजगुरु व गुरमेल ¨सह का विशेष योगदान रहा।

परिषद् की स्थानीय शाखा के अध्यक्ष पवन रूखाया ने आए हुए अतिथियों व कलाकारों का आभार व्यक्त किया। कार्यक्रम में मंच संचालन परिषद् के प्रातीय महासचिव केके अरोड़ा ने किया। समापन अवसर पर सभी कलाकारों को सम्मानित किया गया तथा आए हुए अतिथियों को प्रकल्प प्रमुख सीपी आहूजा व परिषद् के सदस्यों ने स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। इस अवसर पर प्रवीण मेहदीरत्ता, राजकुमार टुटेजा, तुषाल गेरा, कुशल चराईपौत्रा, विजय मेहता, राजीव मक्कड़ आदि उपस्थित थे।

लेख पढ़ें 


मनीमाजरा, पंजाब पूर्व : शाखा ने लोहिया इन्टर्नेशनल स्कूल के 110 बच्चों का मैडिकल चैकअप करवाया। शाखा प्रधान केशव अग्रवाल ने सभी का स्वागत किया। दाँतों की जाँच डा॰ आशीष वर्मा, डा॰ अरुण प्रसाद और आँखों की जाँच श्रीमती खोसला और श्रीमती हरजिन्दर कौर, जो परिषद् डायग्नोस्टिक सेन्टर सैक्टर-24 चण्डीगढ़ के आँख विभाग में काम करती हैं, द्वारा की गई। कार्यक्रम की अध्यक्षता एच॰ रावत, सचिव गोपाल गोकुलधाम ने की। उन्होंने परिषद् द्वारा किये जा रहे कार्यक्रमों की सराहना की और `2100/- का आर्थिक सहयोग भी दिया। कार्यक्रम स्वामी विवेकानन्द जी की 150वीं शताब्दी को समर्पित किया गया।

अमृतसर मेन, पंजाब उत्तर : शाखा के प्रधान सुमित पुरी की अध्यक्षता में स्वामी विवेकानन्द शताब्दी समारोह बड़ी श्रद्धा से मनाया गया, जिसमें होनहार बच्चों को पुरस्कार वितरित किये गये। आठवीं कक्षा का बालक सार्थक, जो कि टेबल टैनिस के खेल में नेशनल स्तर का एक सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी है, को पुरस्कार में एक साइकिल दी गई। इस उपलक्ष्य पर सभी सदस्य उपस्थित थे।

मदनगंज-किशनगढ़, राजस्थान मध्य : स्वामी जी की 150वीं जयन्ती वर्ष एवं परिषद् की स्वर्ण जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में नेत्र चिकित्सा शिविर का आयोजन आर॰के॰ पाटनी फाउन्डेशन के सौजन्य से मार्बल सिटी हास्पिटल में आयोजित किया गया। जिसमें 432 मरीजों के नेत्रों की जाँच कर 194 मरीजों को आप्रेशन हेतु चयनित किया गया। आप्रेशन तथा कृत्रिम लैंस प्रत्यारोपण, आवश्यक दवाईयाँ, चश्में आदि निःशुल्क वितरित किये गये।

‘विवेकानन्द’ भीलवाड़ा : शाखा द्वारा युवाओं में स्वामी विवेकानन्द के विचारों को पहुँचाने हेतु परिषद् भवन शास्त्रीनगर में प्रदर्शनी लगाई गई। विवेकानन्द प्रदर्शनी को देखने के लिए युवा उमड़ रहे हैं। अध्यक्ष पारसमल बोहरा ने बताया कि प्रदर्शनी प्रतिदिन दिखाई जा रही है। प्रदर्शनी में परिषद् के आराध्य स्वामी जी के जन्म से लेकर मृत्यु तक के दृश्यों को चित्रों के माध्यम से दर्शाया गया है एवं उनके विचारों को प्रदर्शित किया गया है। प्रान्तीय उपाध्यक्ष गोविन्द प्रसाद सोडानी ने अधिक से अधिक लोगों से प्रदर्शनी को देखने की अपील की है। 6 मई को शास्त्री नगर स्थित परिषद् भवन पर पक्षियों के दाना-पानी हेतु परिण्डे वितरित किये गये।

राँची महानगर, झारखण्ड : शाखा के तत्वावधान में स्वामी जी की 150वीं जयन्ती के अवसर पर 5 मई को राजकीय माध्यमिक विद्यालय में विवेकानन्द पर भाषण प्रतियोगिता का आयोजन महानगर अध्यक्ष सुनील कुमार दास की अध्यक्षता में किया गया। प्रतियोगिता में प्रथम स्थान सुश्री नेहा कुमारी, द्वितीय स्थान गुंजा कुमारी एवं तृतीय स्थान अमित स्वांसी को मिला जिन्हें मुख्य अतिथि राँची विश्वविद्यालय के प्रबंधन विभाग के निदेशक प्रो॰ सत्यनारायण लाल दास एवं प्रान्तीय कोषाध्यक्ष डा॰ प्रदीप कुमार सिन्हा के द्वारा पुरस्कृत किया गया। प्रो॰ दास ने विवेकानन्द के जीवन और दर्शन से प्रेरणा लेने की जरूरत बताई। इस अवसर पर प्रान्तीय उपाध्यक्ष सत्येन्द्र कुमार मलिक, महानगर सचिव प्रो॰ वी॰एन॰ सिन्हा, कोषाध्यक्ष डा॰ आर॰बी॰ सिन्हा एवं अन्य गणमान्य उपस्थित थे।

Tamil Nadu : Pondicherry Prant and Theosophical Society jointly organized and celebrated Swami Vivekananda's 150th Jayanti celebration on 5th May 2012 at Rangarajan Kumaramangalam Hall (BJP Office) at T. Nagar, Chennai. The program started with an audio / visual presentation on Swami ji presented by Shri Lakshmi Narasimhan, Secretary, BVP Mylapore. This was followed by a dance drama choreographed by Smt. Dakshayani (disciple of Padma Subramanyam), 'Nrithyalaya Dance was performed by the students of Smt. Dakshayani group on the theme based on Swami ji's life; early life of Narendra, how Narendra came into contact with his guru Shri Ramakrishna Paramahansa got influenced by him and later became Swami Vivekananda. The entire audience stuck to their seats by this stunning performance. Dr. V. Sankar Zonal Chairman BVP explained how BVP's ideologies and functions are based on the theme of Swami Vivekananda. After this Dr. K. Subramaniam (former Principal of Vivekananda College, Thiruvedagam, Madurai) in his spellbound speech, mentioned 5 important points that how Swami Vivekananda's guidelines make a man a better man and messages of Swami Vivekananda to the World and to the mankind. He also highlighted the historical events from the life span of Swami particularly his stay in Tamil Nadu, Chennai when he was assisted to go to Chicago to address the World Religious Conference. Shri L. Ganesan, highlighted Swami's teachings and its relevance to the present day life in general and to our country in particular. In his concluding remarks he mentioned that today's youth can be guided by the fearless approach of Swami's challenges in life with positive approach. During this program, a book "Vivekananda Kattiya Vazhi" in Tamil, written by RBVS Maniam, was released by Shri L. Ganesan and copies of the book were presented to the dignitaries.

Swami Vivekanand, Gandhi Nagar, J&K : Branch celebrated 150th anniversary and golden jubilee year of BVP by organising programme at Ransoo, Shiv Khori Distt Reasi. The programme was attended by about 125 members including their spouses. The members gave their views and expressions about the life and messages of Swami ji. The programme was followed by the sacred yatra from katra the base camp of Mata Vaishnodevi. Sh. Surinder Sethi Distt. Coordinator Reasi and Sh. Rajesh Sharma President of Ransoo welcomed the members at Suley Park, Reasi.

(Niti: Jul., 2012)

स्वामी विवेकानंद को श्रद्धांजलि दी
जागरण; July 5,2012
जालंधर | भारत विकास परिषद जालंधर गौरव ने बुधवार को वर्कशाप चौक में स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा पर पुष्पमालाएं अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की। संस्था के प्रधान एनके महेन्द्रू की अध्यक्षता में आयोजित कार्यक्रम में महेन्द्रू ने स्वामी विवेकानंद की समाज सेवाओं की जानकारी दी। उन्होंने समाज को स्वामी जी के उपदेशों पर चलने की अपील की। इस मौके पर जिला अध्यक्ष राजिंदर ऋषि, सचिव आरसी गोयल, यश महाजन, प्रांत सचिव रमेश विज, डा. जेके भाटिया, जीडी कुन्द्रा, राज सभ्रवाल, मनोहर लाल, शिव सोनिक, हर्ष वर्धन, राजीव वर्मा, गुलजारी लाल व संस्था के अन्य सदस्य मौजूद थे।

लेख पढ़ें 


गोविन्द, कानपुर, ब्रह्मावर्त : स्वामी विवेकानन्द की 150वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में एक सांस्कृतिक कार्यक्रम सरस्वती विद्या मन्दिर इण्टर कालेज में दायित्व ग्रहण समारोह के पश्चात् आयोजित किया गया, जिसमें कक्षा 9 के प्रिन्स कुमार ने स्वामी जी के रूप में शिकागो में दी गयी स्पीच सुनायी। कुल बच्चों ने मनमोहक नृत्य प्रस्तुतियाँ दी। समारोह को सफल बनाने में शाखा के सभी सदस्यों का विशेष सहयोग रहा।

Vijayawada Central, A.P.East : Branch jointly organised a shobha yatra from local I.G.M. Stadium to statue of Swami Vivekanand covering a distance of around 2 km. More than 250 members & guests participated in the yatra. In this yatra branch members and some guests wore specially printed T shirts and white caps printed with BVP logo and 150th anniversary slogan of Swami Vivekanand.

Kotkapura, Punjab South : On the eve of Swami ji's 150th year celebration, the branch organised Safai competition among all municipal wards of the city to make city clean and to encourage safai sevaks. On penultimate day after inspection the winners 1st, 2nd and 3rd were awarded cash prizes of Rs. 5100, 3100 and 2100 respectively by local SDM. Municipal Commissioner, Sh. Jaipal Garg, Zonal Secretary Project, Sh. Ram Kumar Garg, Sh. T.R. Arora Dist. President were also  present. Sh. Kamal Garg was the compere. Holi festival of color and women's day was celebrated on 08.03.2012. During phoolon ki holi played by a cultural group along with family members of BVP and questionnaire being held on Indian rich culture.

(Niti; Jun.,2012)


कैथल में नव निर्मित लाईब्रेरी स्वामी विवेकानंद के नाम से समर्पित की गई
दैनिक टित्रब्यून;  May 22, 2012
कैथल। पौराणिक व महाभारत कालीन कैथल की समृद्ध संस्कृति, सभ्यता के संरक्षण, अध्यात्मिक और पौराणिक धरोहरों को सहेजने, संरक्षित करने के कार्य को अंजाम देकर इस नगर की प्राचीन आभा को फिर से लौटाया गया है। यह विचार लोक निर्माण एवं उद्योग मंत्री रणदीप सिंह सुरजेवाला ने व्यक्त किए।
वह भारत विकास परिषद के आयोजित दायित्व ग्रहण समारोह में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। उन्होंने बताया कि स्वामी विवेकानंद ने अल्प आयु में ही भारत वर्ष को पूरे विश्व में गौरवान्वित करने का काम किया, जिन्हें कैथल में नव निर्मित लाईब्रेरी उनके नाम से समर्पित की गई है। एक करोड़ 72 लाख रुपए की लागत से जवाहर पार्क के एक कौने में 12 हजार फुट में निर्मित स्वामी विवेकानंद पुस्तकालय शीघ्र ही लोकार्पित होगा और इस परिसर में स्वामी विवेकानंद की प्रतिमा भी स्थापित होगी। उन्होंने परिषद को पीडि़त मानवता के सेवार्थ एक एम्बुलैंस देने की घोषणा की। कार्यक्रम के अध्यक्ष सतीश बंसल द्वारा भी 21 हजार रुपये की राशि सेवा कार्यों के लिए दी गई।

उन्होंने भारत विकास परिषद के संस्कारमय कार्यों की सराहना करते हुए कहा कि इस कार्यों की बदोलत इस क्षेत्र के लोग अपनी प्राचीन परम्पराओं, रीति-रिवाजों और त्यौहारों से जुड़े हैं जिसे आज की पीढ़ी भूलाती जा रही है। उन्होंने कार्यकारिणी के नए सदस्यों जिनमें प्रधान डा. जगदीश मनोचा, उपप्रधान डा. अनुज मक्कड़ व देवेंद्र सिंगला, सचिव श्रीमती निधि शर्मा, संयुक्त सचिव सीमा सिंगला व तिलकराज, कोषाध्यक्ष पीके गुप्ता तथा प्रैस डा. बीके मक्कड़ को बधाई देते हुए उनका आह्वान किया कि वे इस अच्छे कार्यों को आगे बढ़ाएं। कार्यक्रम की अध्यक्षता आरकेएसडी संस्थाओं के अध्यक्ष सतीश बंसल ने की तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में भारत विकास परिषद के प्रांतिय अध्यक्ष जोगेंद्र मौजूद रहे। मंच का संचालन निधि शर्मा व राजेंद्र ठुकराल ने किया। इस मौके पर परिषद से जुडऩे वाले नए 16 सदस्यों को भी शपथ दिलाई गई। कार्यक्रम में डा. अशोक गर्ग, शाखा संरक्षक, पूर्व प्रधान सतीश निर्वानी,जिला प्रधान अशोक गुप्ता, डा. राजेन्द्र ठुकराल, डा. श्याम साहनी,हरिश चावला, अरविन्द चावला सहित भारत विकास परिषद के सभी सदस्य उपस्थित रहे।

लेख पढ़ें 


हजारीबाग, झारखण्ड : शाखा द्वारा स्वामी जी की 150वीं जन्म शताब्दी के शुभारम्भ पर आचार्यों एवं प्रधानाचार्य द्वारा सरस्वती विद्या मन्दिर कुम्हारटोली में एक संगोष्ठी का आयोजन किया गया। उक्त विद्यालय द्वारा चलाये जा रहे 3 संस्कार केन्द्रों के भैया-बहनों को, जिनकी संख्या 108 है, भी आमंत्रित किया गया था। उन्हें स्वामी जी के बारे में जानकारी दी गयी। सभी भैया-बहनों को शाखा द्वारा नये वस्त्र दिये गये और खिचड़ी का भोजन कराया गया। केन्द्र के बच्चों को स्वेटर भी प्रदान किये गये।

मुजफ्फरपुर, उत्तर बिहार : स्वर्ण जयन्ती वर्ष एवं स्वामी विवेकानन्द उत्तरशताब्दी वर्ष के शुभ अवसर पर एक परिचर्चा का आयोजन 26.02.2012 को राष्ट्रीय उपाध्यक्ष शिवशरण अस्थाना की उपस्थिति में प्रान्त एवं शाखा के संयुक्त तत्वावधान में किया गया। परिचर्चा का विषय था ‘‘मानव जीवन का उद्देश्य स्वामी जी की दृष्टि में’’ परिचर्चा में विभिन्न शाखाओं से पदाधिकारियों, प्रतिनिधि सदस्यों ने भाग लिया। परिचर्चा में राष्ट्रीय संयुक्त संगठन मंत्री मिथिलेश कुमार वर्मा, क्षेत्रीय संगठन मंत्री ई॰ अशोक कुमार, प्रान्तीय उपाध्यक्ष उदय शंकर, प्रान्तीय महासचिव डा॰ एस॰ एन॰ पटेल भी उपस्थित हुए।

‘विवेकानन्द’ भीलवाड़ा, राजस्थान मध्य : शाखा अध्यक्ष पारसमल बोहरा ने बताया कि स्वामी विवेकानन्द की 150वीं जयन्ती व भाविप के स्वर्ण जयन्ती समारोह वर्ष में प्रवेश करने के उपलक्ष्य में शाखा द्वारा स्वामी जी के विचारों को आमजन तक पहुँचाने के लिये शहर के 8 चुनिन्दा स्थानों पर उनके आदर्शवादी विचार लिखे होर्डिंग्स व 12 प्रमुख स्थानों पर उनके चित्र लगाए गए।

सफीदों, हरियाणा पश्चिम : शाखा द्वारा स्वामी जी की जयन्ती पुराना बस स्टैंड पर मनाई गई, जिसमें स्वामी जी के जीवन पर प्रकाश डाला गया तथा मार्ग दर्शक पुस्तिका भी वितरित की गई।

दीनानगर, पंजाब उत्तर : 22.02.2012 को गोबिन्द पब्लिक स्कूल में स्वामी जी की 150वीं जयन्ती मनाई गई। इस उत्सव में अध्यक्ष अखिल भारतीय सचिव राधेश्याम महाजन, संयोजक जी॰आर॰ महाजन, विजय कांसरा, कुलदीप महाजन, अनिक गुप्ता वक्ता के रूप में शामिल हुए। वक्ताओं ने कहा कि स्वामी जी द्वारा किये गये देश तथा समाज हित के कार्यों से प्रेरणा लेकर उन्हें जीवन में धारण करना चाहिए। गोबिन्द स्कूल के बच्चों ने स्वामी जी के जीवन पर आधारित भाषण दिए व शाखा पदाधिकारी को स्मृति चिह्न देकर सम्मानित किया गया। सेमिनार में स्कूल के डायरेक्टर रिछपाल सिंह गोराया व अन्य स्टाफ मौजूद थे।

वीरतात्याटोपे, शिवपुरी, मध्य भारत उत्तर : स्वामी जी के जन्म शताब्दी वर्ष से उनके आदर्शों और सपनों को साकार करने के उद्देश्य से कार्यरत समाजसेवी संस्था के द्वारा उप-जेल शिवपुरी में कैदियों के बीच व्याख्यान कार्यक्रम सम्पन्न कराया गया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता मधुसूदन चौबे ने स्वामी जी के आदर्शों पर चलने और उनके सपनों को साकार करने की बात कही। उन्होंने स्वामी जी के जीवन चरित्र का वर्णन करते हुए कहा कि स्वामी जी नारी शिक्षा एवं नारी उत्थान के प्रबल समर्थक थे। वह नारी को शक्ति स्वरूपा मानते थे। संस्था की ओर से सभी कैदियों को फल का वितरण किया गया। आभार अध्यक्ष सुरेश चन्द्र शर्मा द्वारा ज्ञापित किया गया।

कन्नौज, ब्रह्मावर्त : 12.03.2012 को स्वामी जी की 150वीं वर्षगांठ एवं परिषद् की स्वर्ण जयन्ती पर होली मिलन का एक भव्य कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि जिलाधिकारी आलोक तिवारी, जिला जज देवेन्द्र कुमार तिवारी, पुलिस अधीक्षक राजेन्द्र कुमार सिंह मौजूद थे। विशिष्ट अतिथि राम शरण श्रीवास्तव राष्ट्रीय संरक्षक एवं प्रभारी विवेकानन्द कार्यक्रम रहे। प्रतिभा सम्पन्न कवि दादा विश्वनाथ द्विवेदी को अंगवस्त्र पहना कर व प्रतीक चिह्न देकर सम्मानित किया गया। कानपुर एवं लखनऊ की टीमों ने राधाकृष्ण मोर नृत्य, फूलों की होली, शंकर तांडव एवं शंकर पार्वती मनुहार नृत्य तथा साँई बाबा की झांकी के कार्यक्रम का मुख्य आयोजन किया। प्रान्त के सभी आगन्तुकों को उपहार देकर तथा गुलाल लगाकर सम्मानित किया गया।

प्रमुख झाँसी, बुन्देलखण्ड : पंजाब नेशनल बैंक के सौजन्य से स्वामी जी के 150वें जन्मदिवस पर राष्ट्रीय कार्यक्रम समिति ने ई॰ मैथिली शरण के निर्देशन में प्रान्त की सभी शाखाओं के स्कूली बच्चों ने प्रभात फेरी निकाली। प्रदीप श्रीवास्तव की अध्यक्षता एवं प्रधानाचार्या श्रीमती इन्दिरा गुप्ता के संयोजन में पं॰ कृष्ण चन्द्र शर्मा इण्टर कॉलेज की छात्राओं की प्रभात फेरी के मुख्य अतिथि पंजाब नेशनल बैंक के प्रबंधक श्री प्रमोद कुमार सेसा ने प्रभात फेरी को हरी झण्डी दिखाई। शाखा रानी झाँसी द्वारा देवेन्द्र सिंह की अध्यक्षता एवं राजेश जैन के संयोजन में वीरांगना पब्लिक जूनियर हाई स्कूल की छात्राओं की प्रभात फेरी बंगला घाट बड़ागाँव गेट क्षेत्र में निकाली गई। मुख्य शाखा द्वारा रविन्द्र प्रकाश गुप्ता की अध्यक्षता एवं श्रीरामतीर्थ सिंघल के संयोजन में गुसाईपुरा स्थित स्वामी विवेकानन्द कन्या हाई स्कूल की छात्राओं द्वारा प्रभात फेरी निकाली गई। महारानी लक्ष्मीबाई शाखा द्वारा डॉ॰ शरद द्विवेदी की अध्यक्षता एवं रामकुमार लोइया के संयोजन में डॉ॰ के॰ जी॰ द्विवेदी इण्टर कॉलेज के छात्रों द्वारा दतियागेट सिद्धेश्वर मन्दिर क्षेत्र में स्वामी जी के बैनर के साथ प्रभात फेरी निकाली गई।

दादर एवं नागर हवेली, गुजरात मध्य : परिषद् की 50वीं एवं स्वामी जी की 150वीं जयन्ती वर्ष के उपलक्ष्य में शाखा ने 118 नव दम्पतियों का सामूहिक विवाह सिन्दोनी आदिवासी ग्राम में आयोजित किया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय अध्यक्ष आर॰पी॰ शर्मा रहे। विवाह आयोजन में श्री के॰ के॰ अग्रवाल जोनल सचिव (सेवा प्रकल्प), श्री सुरेन्द्र विकल प्रा॰ अध्यक्ष, समाज सेवक महावीर प्रसाद के अतिरिक्त सर्वश्री वीरेन्द्र यागनिक, कमलेश पारीख तथा लाडू लाल सोनी ने सभी विवाहित जोड़ों को आशीर्वाद दिया।

Kotkapura, Punjab South : On the eve of Swami Vivekanand ji's 150th year celebration the branch organized Safai competition among all Municipal wards to make city clean and to encourage safai sevaks. On the penultimate day after inspection the winners 1st 2nd and 3rd were awarded with cash prizes of 5100, 3100 and 2100 respectively by local SDM. Sh. Kamal Garg was the compere. Holi festival and women's day was celebrated on 08.03.2012. During phoolon ki holi a cultural programme was also conducted.

Dr. Kitchlu, Ludhiana, Punjab North : A seminar on life and teachings of Swami Vivekananda ji was organized on 25th February 2012 in the premises of Arya College for Women. Dr. Ramini Batra incharge N.T.T.C. welcomed the guests, students and the staff members. Mrs. Aruna Puri described the life sketch of Swami ji. Sh. Ravinder Mittal stressed on the uniqueness of personality of the saint. Dr. Vinay Sofat, explained Swami ji's philosophy and teachings for the benefit of the youth of modern India. His interesting lecture was followed by the question answer session. About 150 girl students  asked a variety of questions about Swami ji. Dr. J.R. Kaushal the State Convener, explained the five important maxims of BVP. Smt. Neelam Thapar thanked the participants and the guests.

Kolkata South, West Bengal : Members participated in the prabhat pheri organized to celebrate the birth day of Swami Vivekanand on 12th January 2012 and distributed 5000 pocket calendars with photo of Swami ji, contributed Rs. 10,000/- for the seminar organized on 18th & 19th Feb. 2012 by BVP. The Prant has two ongoing projects for service to the underprivileged children & old women. Parishad contributed Rs. 25,029/- to Kamakhya Balak Ashram (accommodating over 50 orphan children) for the purchase of rice for the period Oct-Dec 2011. And Rs. 6,260/- to Uttamananda Matri Ashram, Konnagar for purchase of flour, pulses & milk etc. During the period Oct-Dec. 2011, paid Rs. 5000/- to Santanu Adhikari, a handicapped sportsman to participate in International Yoga championship 2011-12 organised by Hong Kong Yoga Federation. 

(NITI: May., 2012)

<< पिछला <> अगला >>

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved