Photo Gallery

 Audio Gallery

   States / Prants

 Branch PSTs

  Finance

 Some Useful Articles

   BVP in the News

   States' Publications

 News from the Branches

 Feedback 
 Website Contents 

 

 

 



Be a partner in development of the Nation

Bharat Vikas Parishad is striving for the development of the Nation. You can also participate in this effort  by (a) becoming a member of Bharat Vikas Parishad, (b) enrolling yourself as a “Vikas Ratna” or “Vikas Mitra”  and (c)  donating for various sewa &  sanskar projects.

Donations to Bharat Vikas Parishad are eligible for income tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. Donations may kindly be sent by cheque / demand draft in favour of Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan, BD Block, Behind Power House, Pitampura, Delhi-110034.


 
 

.
 

 

Niti नीति:

BVP in the News

Utkrishtata Samman: 2011



Election of National Team for2014-16

 

 

The National Governing Board of Bharat Vikas Parishad in its meeting held on 16th February, 2014 at Noida, unanimously elected following National Office Bearers for the years 2014-16: 
(a) National President – Shri Sitaram Pareek, Mumbai 
(b) National Working President - Shri Surinder Kumar Wadhwa, Delhi
(c) National Secretary General - Dr. Kanhaiya Lal Gupta, Aligarh, and
(d) National Finance Secretary - Shri Sachidananda Panda, Bhubneswar.


National Level Elocution Competition:  Hyderabad (1st-2nd Feb 2014)
Swamy Bhodamayanandji blessed all the 16 participants from A.P. West, A.P. East, Tamil Nadu, Rajasthan North, Maharashtra –II, Madhya Bharat and Braj Pradesh. Smt. Vrushali Reddy, Smt. Bharati Rao and Sri Ashok acted as Judges.

     
           
     
           

     

The winners who were ranked 1,2,3,4 and 5 were as under:

Sl. No.   Name of Participant            Prant 
1  P. Keerthana  A. P. West 
2  Santosh Sharma          Madhya Bharat
3  Ch. Raju (Blind Boy)       A.P. West 
4  Amit Bhadu Rajasthan North 
5 Niklesh Mdare (Blind)  Maharashtra – II 

Dr. K. Rosaiah, H.E. Governor of Tamil Nadu was the Chief Guest and he distributed the prizes to all winners from 1st to 5 winners. Dr. Rosaiah has appreciated the efforts of Andhra Predesh West Prant and BVP Charitable Trust for conducting National competitions in elocution category for the year 2013 – 14. 

Governor advised the youth to practice the Vivekananda ideals and contribute for the good of the nation in general and also build – up their personality for bright future. He also recollected his earlier visits and meetings in Bharat Vikas Parishad and offered BEST WISHES to make all ongoing activities successfully and also to take – up more in future. 

Project Chairman Sri B. Ch. (Aswini) Subba Rao has conducted the meeting successfully all other speakers including Prof. S.P. Tiwari, Sri S.K. Wadhwa, Pramod Dadu, Nripender Rao appreciated the programme conduction committee for outstanding arrangements on 1st and 2nd February in befitting manner.

- Kasi V. Rao, National Secretary, Project Convenor


राष्ट्रीय शासी मण्डल बैठक (फरवरी, 2014)
नोएडा
:  पश्चिमी उत्तर प्रदेश की नोएडा शाखा के आतिथ्य में 15-16 फरवरी, 2014 को होटल पार्क एसन्ट में राष्ट्रीय शासी मण्डल की बैठक सात सत्रों में सफलता पूर्वक सम्पन्न हुई।

उद्घाटन सत्र के पूर्व परिषद् का ध्वज फहराया गया। दीप प्रज्ज्वलन और वन्दे मातरम् गायन के उपरान्त प्रान्तीय महासचिव पंकज जिन्दल एवं स्वागत समिति के अध्यक्ष गोपाल कृष्ण अग्रवाल ने विभिन्न प्रान्तों से आये सभी प्रतिष्ठित प्रतिनिधियों का अभिनन्दन/स्वागत किया। राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रो. सत्य प्रकाश तिवारी ने उपरोक्त बैठक की अनिवार्यता के सम्बन्ध में चर्चा की। 2-3 फरवरी, 2013 को गुवाहाटी (असम) में आयोजित राष्ट्रीय शासी मण्डल बैठक की कार्यवाही राष्ट्रीय महामंत्री एस.के.वधवा द्वारा प्रस्तुत की गई। इसी के साथ राष्ट्रीय महामंत्री की वर्ष 2012-13 की रपट भी प्रस्तुत हुई। इन दोनों प्रस्तुतियों की सभासदों ने करतल ध्वनि से सम्पुष्टि कर दी। इस सत्र की विशेषता रही केन्द्रीय कार्यालय द्वारा प्रकाशित ‘स्वर्ण जयन्ती विशेषांक’ का प्रकाशन और इसके सम्पादक डॉ० के.एल.गुप्ता द्वारा इस का विधिवत् विमोचन करवाया जाना। इसी अवसर पर पश्चिमी उत्तर प्रदेश द्वारा प्रकाशित विशेषांक ‘स्वर्णिम अभ्युदय’’ का भी विमोचन किया गया। इस सत्र के मुख्य अतिथि पूर्व केन्द्रीय मंत्री (भारत सरकार) श्री अशोक प्रधान ने अपने भाषण में 2014 के राष्ट्रीय चुनावों में बढ़-चढ़ कर भाग लेने का आग्रह किया। प्रथम सत्र उपस्थित सभासदों के परिचय से आरम्भ हुआ। तदुपरान्त राष्ट्रीय वित्त मंत्री डॉ० के.एल.गुप्ता ने वर्ष 2012-13 का ऑडिटिड लेखा-जोखा प्रस्तुत किया जिसे सर्वसम्मति से स्वीकृत किया गया। वित्तमंत्री ने केन्द्रीय शुल्क, विकास रत्न, विकास मित्र, उत्तराखण्ड आपदा राहत कोष और सेवा प्रकल्पों के लिये केन्द्र की ओर से दी जाने वाली आर्थिक सहायता से भी सभी को अवगत कराया। इसी सत्र में सभी 17 क्षेत्रीय अधिकारियों ने अपने-अपने क्षेत्र की गतिविधियों की रिपोर्ट प्रस्तुत की। दूसरे सत्र में संस्कार, सेवा और सम्पर्क से सम्बन्धित प्रकल्पों की रपट तद् सम्बन्धी पदाधिकारियों द्वारा प्रस्तुत की गई। भारत विकास परिषद् की स्वर्ण जयन्ती एवं स्वामी विवेकानन्द की सार्धशती के सम्बन्ध में प्रकल्प के राष्ट्रीय मंत्री श्री प्रमोद दादू ने बताया कि इस वर्ष स्वामी जी की 150 मूर्तियों की स्थापना परिषद् शाखाओं द्वारा पूरे देश में की गई।

15 फरवरी की संध्या काव्य गोष्ठी के रूप में अविस्मरणीय बनी रहेगी। वीर, शृंगार और हास्य रस की ऐसी त्रिवेणी बही कि सारा सदन इसमें गोता लगा रहा था। डॉ० वागीश दिनकर की ओजस्वी वाणी से निस्सृत वीर रस प्रधान कविता और बलबीर सिंह ‘खिचड़ी’ की हास्य गंगा का तो कहना ही क्या। मेरे विचार में द्वि-दिवसीय सम्मेलन में यदि किसी ने मन्त्र-मुग्ध किया तो इन्हीं कवियों ने।

तीसरे सत्र में 16 फरवरी, 2014 को शीर्ष मण्डल (Apex Body) की बैठक की कार्यवाही की सम्पुष्टि राष्ट्रीय महामंत्री ने करवाई। विशेष मार्गदर्शन श्री वी.भगैया जी का प्राप्त हुआ। उन्होंने का कि राष्ट्र की परिकल्पना में सदस्यों की भागीदारी रहनी चाहिए; महिला को स्त्री नहीं मातृ-मूर्ति कहें, व्यक्ति दायित्व मुक्त हो सकते हैं कार्य मुक्त नहीं इत्यादि। तदुपरान्त मुक्त चिन्तन में सदस्यों की सभी शंकाओं का समाधान और सुझावों पर विचार करने का आश्वासन दिया गया। राष्ट्रीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति वी.एस.कोकजे ने अपने अध्यक्षीय भाषण में परिषद् की प्रत्येक शाखाओं को मूल (बीज) माना है जिससे पनपने वाले वृक्षों के फूलों की सुगन्ध प्राप्त होगी। उनका कहना था कि परिषद् के असली चेहरे तो हमारे कार्यकर्ता हैं। बदलते समय के साथ हमारे प्रकल्प भी बदलने चाहिएँ। इस संगठन को ऊर्ध्वगामी बनाने के लिए आवश्यक है कि हम आधुनिक प्रौद्योगिकी का प्रयोग करें जिससे हमारी पहुँच अधिकाधिक लोगों तक हो सके। इस अवसर पर अतिथियों और कार्यकर्ताओं का सम्मान भी किया गया।

चुनावी सत्र में श्री हरीश जिन्दल, चेयरमैन चुनाव समिति की देख-रेख में वर्ष 2014-2016 के लिए सर्व सम्मति से श्री सीताराम पारीक (मुम्बई) को राष्ट्रीय अध्यक्ष, श्री एस.के.वधवा (दिल्ली) को राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष, डॉ० के.एल.गुप्ता (अलीगढ़) को राष्ट्रीय महामंत्री और श्री एस.एन. पाण्डा (भुवनेश्वर) को राष्ट्रीय वित्त मंत्री निर्वाचित घोषित किया गया।

अन्तिम सत्र में प्रतिनिधियों की ओर से डॉ० के.एल.गुप्ता ने आयोजन समिति के सभी सदस्यों का और श्री वागीश दिनकर ने आगत सभी प्रतिनिधियों का एवं केन्द्रीय नेतृत्व का धन्यवाद ज्ञापित किया। यह मात्र औपचारिक्ता नहीं थी अपितु प्रान्तीय अध्यक्ष श्री दिनकर ने तो जैसे सभी के लिए पलक-पाँवड़े ही बिछा दिए थे। राष्ट्रगान के साथ द्वि-दिवसीय अविस्मरणीय बैठक सफलता पूर्वक सम्पन्न हुई।

नोट : (i) मैं श्रीमती इन्दु वार्ष्णेय का विशेष उल्लेख करना चाहूँगा जिन्होंने अपने हाथ से हॉल की समस्त साज/सज्जा को संवारा था और सभी पुष्प-गुच्छ अपने हाथ से बनाए थे जो कभी मुरझा नहीं सकते। (ii) इस अवसर पर सभी 192 प्रतिनिधियों को भी सम्मानित किया गया।

अंतिम उद्गार:
            राष्ट्र शासी बैठक में सभी हुए एकत्र, विवेक और आन्दन की फैली सुगन्ध सर्वत्र ।
            फैली सुगन्ध सर्वत्र हुआ है ऐसा मन्थन, संस्कारित हो कर रहे सब सेवा सम्बन्धन।
            कहे ‘धीर’ सद्भाव से बनो न कभी धृतराष्ट्र, अपितु अन्तर्मन से सभी करो वन्दन राष्ट्र।
                           

प्रस्तुति- डॉ० धर्मवीर सेठी
(Niti: Apr., 2014)


भारत विकास परिषद् का वाराणसी में दो दिवसीय स्वर्णिम समागम (21-22 दिसम्बर, 2013)
सम्पर्क, सहयोग, संस्कार, सेवा एवं समर्पण पर बल

वाराणसी : भारत विकास परिषद् के 50 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में स्वर्ण जयन्ती समारोह और स्वामी विवेकानंद के 150वें जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में परिषद् द्वारा 21-22 दिसम्बर, 2013 को वाराणसी स्थित कटिंग मेमोरियल इंटर कॉलेज में दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय स्वर्णिम समागम का आयोजन किया गया। समागम में परिषद के वर्षभर के कार्यों की रिपोर्ट राष्ट्रीय महामंत्री सुरेंद्र कुमार वधवा ने रखी, जिसे सभी ने करतल ध्वनि से पास किया। देश के विभिन्न प्रान्तों से आए लोगों के एक साथ जुड़ाव ने समागम परिसर को लघु भारत का आकार दे दिया था।

समागम के प्रथम सत्र का शुभारंभ 21 दिसम्बर, 2013 को भारत सरकार की लोक लेखा समिति के अध्यक्ष व सांसद डॉ. मुरली मनोहर जोशी ने किया। इस अवसर पर डॉ. जोशी ने कहा कि भारत विकास परिषद् को अपना दायरा बढ़ाना होगा क्योंकि भारतीय संस्कृति का विस्तार व्यापक है। उन्होंने कहा कि किसी देश की संस्कृति, उसकी पहचान, उस देश की शक्ति होती है। उन्होंने कहा कि भारत विश्व को एक परिवार के रूप में देखता है, जबकि अन्य देश बाज़ार के रूप में। अधिवेशन की स्मारिका का विमोचन के साथ ही छः नए विकास रत्नों को डॉ. मुरली मनोहर जोशी ने सम्मानित भी किया।

दूसरे सत्र को प्रसिद्ध साहित्यकार डॉ. नरेन्द्र कोहली ने संबोधित किया। उन्होंने स्वामी विवेकानंद की स्मृतियों को सांझा करते हुए कहा कि स्वामीजी की मानें तो व्यक्ति का मान व अपमान नहीं होता। वह सिर्फ राष्ट्र का होता है। यही वजह है कि उन्होंने अमरीका में आयोजित धर्म संसद के दौरान जब खुद का परिचय बताया तो भारत की एकरूपता दिखी। स्वामीजी गरीबी व अशिक्षा को मुख्य समस्या मानते थे इसलिए उनका अधिक ज़ोर शिक्षा को बढ़ावा देने में रहा।

महिलाओं के लिए विशेष सत्र में भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष सुश्री स्मृति ईरानी ने कहा कि महिला और पुरुष की तुलना करना ठीक नहीं है। जब ईश्वर ने दोनों को अलग बनाया है तो तुलना कैसे संभव है। जीवन की राह में दोनों का अलग महत्व होता है। उन्होंने कहा कि निष्ठा और समर्पण के कारण ही चन्द्रगुप्त मौर्य ने अपनी सुरक्षा में महिला सेना लगाई थी। सुश्री ईरानी ने कहा कि महिलाओं को जो अधिकार पहले प्राप्त थे वे अब नहीं हैं।

प्रथम दिन के आखिरी सत्र में सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया गया। इसमें गंगा आरती के प्रतिरूप की प्रस्तुति की गई। वहीं राजेश डोगरा ने स्केटिंग के माध्यम से वंदेमातरम गीत सुनाया, जिसने लोगों का मन मोह लिया।

दो दिवसीय अधिवेशन के प्रथम सत्र के मुख्य वक्ता स्वामी यतीन्द्र महाराज थे। उन्होंने अपने उद्बोधन में कहा कि सेवा एक ऐसा माध्यम है, जिससे जीव सीधा परमात्मा से जुड़ जाता है। सेवा में अहंकार नहीं होता। उन्होंने कहा कि जन्म के बाद तीन मित्र बनते हैं। इनमें पहला शरीर है, जो सदैव पास रहता है। दूसरा सगे-संबंधी, जो समय पर मिलते हैं और तीसरा कर्म, जो मनुष्य के साथ जाता है। इसलिए कर्म के प्रति सजग रहने की ज़रूरत है।

अधिवेशन के दूसरे सत्र के मुख्य अतिथि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के उत्तर क्षेत्र के क्षेत्रीय संघचालक डॉ. बजरंग लाल गुप्ता थे। उन्होंने अपने संबोधन में संगठन और सम्पर्क पर ज़ोर दिया। अध्यक्षता करते हुए प्रो एस.पी. तिवारी, राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष ने परिषद् के सभी कार्यकर्ताओं से सेवा एवं सम्पर्क कार्य करने का आह्वान किया।

परिषद् के संरक्षक स्वामी सत्यमित्रानंद गिरि जी महाराज ने कहा कि शरीर रहते जब आत्मा से संपर्क होता है तो व्यक्ति धन्य हो जाता है। जैसे-जैसे सम्पर्क बढ़ता है आत्मीयता बढ़ती है, लेकिन सम्पर्क में सावधानी बरतने की ज़रूरत है। इसके अभाव में व्यक्ति प्रलोभन में फंस जाता है। उन्होंने कहा कि सेवा से मेवा पाने की उम्मीद न रखें। यह संस्कार के विरुद्ध है।

अध्यक्षता करते हुए परिषद् के राष्ट्रीय अध्यक्ष न्यायमूर्ति वी.एस.कोकजे ने कहा कि समागम में परिषद् की गतिविधियों के साथ आगामी योजनाओं पर विचार हुआ है। उन्होंने कहा कि मानव संस्कार महत्वपूर्ण होता है जिसका लोप होता जा रहा है। परिषद् इसे चुनौती के रूप में ले रहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि युवाओं में संस्कार निर्माण के लिए परिषद् अपनी गतिविधियों को गति देगा।

कटिंग मेमोरियल इंटर कॉलेज के प्रांगण में 22 दिसम्बर, 2013 को उस समय माहौल बेहद भावुक हो गया जब लघु भारत का रूप ले चुके अधिवेशन में लोग बिछुड़ने को हुए। जब लोगों ने एक दूसरे को गले लगाया तो सभी की पलकें नम हो गईं।

संयोजनकर्ता सर्वश्री ब्रह्मानन्द पेशवानी, भोलानाथ बरनवाल, आलोक कपूर, प्रमोदराम त्रिपाठी एवं अन्य सहयोगियों का साधुवाद।

 - सुरेन्द्र कुमार वधवा, राष्ट्रीय महामंत्री

Click here for link to Photo Album on the Facebook
 


Visit of National Working President to Odisha
1.   On 27th July, National Working President Prof. S.P. Tiwari arrived at Bhubaneswar. On 28th July at 10.00 am he addressed the youth of Royal College of Science and Technology advising them to safeguard the interest of our motherland. He asked them to enrich our culture, to drive the society towards progress and to be human being in real sense. Students were engrossed in his speech. 

2.   At 11.00 am the Zonal Co-ordination Commitee meeting of Zone-VIII was inaugurated by National Working President at A0125, Mancheswar.

      Both Odisha Prant and West Bengal Prant office bearers and local branches office bearers attended the meeting. All National personnel's of Odisha were also present. Expansion of Parishad in the State, covering some more districts and increase of members were the main thrust of the discussion. Importance was given in organizing new innovative projects in the Prant and branches.

3.   At 5.30 pm 40 capacity of Tribal Boy's Hostel was inaugurated by both Swami Swarupanandaji and Working President. He addressed the gathering emphasizing on Sewa Work. He also said that unless this group of population is developed, the society can not progress.

4.   In the evening at 7.00 pm at Red Cross Bhawan Prant had arranged an interaction meeting with branches. Members of 8 branches discussed and interacted with him. He advised and told them how to achieve the maximum successful programmes in branches.

5. On 29th morning at 9.00 am Swamiji's statue was unveiled by National Working President in a local Govt. High School. Teachers, many senior members of Parishad witnessed the event. Odisha Prant installed this statue which was donated by Prant President. Zone, Prant and branch members enjoyed the presence and talk of National Working President.

Visit of Shri S.K. Wadhwa, National Secretary General to Hyderabad
On 24th, 25th & 26th August 2013

      24th August   

  • Called on Justice S. Parvatha Rao, BVP Patron as a courtesy call. Sri Rao is taking rest after an Eye operation.

  • Addressed Netaji Subhash Chandra Bose - Kukatpally branch, Hyderabad Executive Meet and Planted Trees in P.N.M. High School and Sri Vivekananda Junior and Degree Colleges premises. Good number of   Branch,  State and National BVP members and office bearers, School students, staff and management members participated.

  • Also visited Bharat Vikas Parishad Charitable Trust premises and observed artificial limbs manufacturing process and diagnostic services function and equipment. Detailed discussion held with Secretary & staff.

  • Visited Bharat Vikas Sanjeevani Generic Medical Shop. Kukatpally and its coordination system with all 9 Medical shops located in Hyderabad and Secunderabad. Charitable Trust Secretary Kasi V. Rao explained the concept and working system.

  • Alongwith A.P. West President Sri Damodar Reddy, Zonal Secretary Sri K. Veerabhadra Rao and Kasi V. Rao, National Secretary visited and discussed informally several issues with the following personalities:

            1.Sri C. Venkat Ramulu Retired High Court Judge and former Green Tribunal Judge, assured all possible services for B.V.P.

           2. Sri K. V. Ramanachari IAS, Religious & Cultural luminary assured all cooperation to spread generic concept everywhere in A.P. Appreciated our activities and projects.

25th August

  • Addressed Golden Jubilee Celebrations function in Keshav Memorial School arranged by A.P. West. Justice L. Narsimha Reddy as Chief Guest., Justice (Rtd) S. Parvatha Rao, Sri B. Ch. (Aswini) Subba Rao were also present on dais. Also honoured senior Members and office bearers for their outstanding services to B.V.P. in A.P. since 1986 onwards in the gathering of 500 including young students and BVP members.

  • Participated & Addressed Zonal XV Council meet and motivated all present to focus on expansion of new branches and membership. The Zonal Office Bearers & all State Office Bearers under the Zone assured the target expansion.

  • Also visited Kasturba Gandhi National Memorial Trust and appreciated the generous services rendered by Kasi V. Raoji and Smt. Padmavathiji as being Incharge of the Trust.

      Also addressed a motivation meeting to start a new branch in that area shortly as BVP-Kasturba Sakha.

      In all the meetings and functions the D.V.D. prepared by BVP regarding Introduction and Golden Jubilee Celebrations displayed with the help of DVD player/Projector and Big Screen which was appreciated by all.

(Niti: Oct., 2013)


राष्ट्रीय महामंत्री का प्रवास
स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर मैं ने 7 बजकर 40 मिनट पर चेतक एक्सप्रेस से किशनगढ़ (राजस्थान) के लिए यात्रा प्रारम्भ की। मेरी गाड़ी एक घण्टा विलम्ब से रात्रि 2 बजकर 10 मिनट पर किशनगढ़ पहुँची। वहाँ मुझे लेने के लिए श्री पवन अग्रवाल जी और श्रीमान् चन्दन जी आये हुए थे। रात्रि विश्राम श्री पवन जी के निवास स्थान पर हुआ। प्रातः 7 बजकर 30 मिनट पर अल्पाहार कर के हम सभी नई शाखा का उद्घाटन करने किशनगढ़ शहर में गये। वहाँ पर नई शाखा के सदस्यों एवं उनके कार्यकारिणी को शपथ दिलाई गई। शाखा के अध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष एवं कार्यकारिणी को परिषद् स्वर्ण जयन्ती वर्ष में राजस्थान मध्य प्रान्त की 38वीं शाखा बनने पर बधाई दी गई। वहाँ से हम सभी एक विकलांग केन्द्र के लिए भूमि पूजन हेतु मदनगंज-किशनगढ़ पहुँचे। वहाँ 1500 वर्ग गज का एक प्लॉट राजस्थान सरकार से खरीदा गया है। स्थानीय विधायक नाथूराम सिनोदिया, नगर परिषद् सभापति श्रीमती गुणमाला पाटनी व राष्ट्रीय मंत्री, मालचन्द गर्ग, क्षेत्रीय चेयरमैन श्री शान्तिलाल पानगड़िया, प्रान्तीय महासचिव श्री मुकन सिंह राठौड़ व शाखा सदस्यों के साथ भूमि पूजन किया गया। इसके बाद प्रान्तीय महासचिव श्री मुकन सिंह राठौड़ के साथ भीलवाड़ा के लिए रवाना हुए। रास्ते में सबसे पहले राष्ट्रीय राजमार्ग पर बान्दनवाड़ा शाखा जिसने, एक पार्क को गोद लिया हुआ है उसमें वृक्षारोपण का कार्यक्रम किया गया एवं पानी की टंकी लगाई गई। इसके बाद बाड़ी मंदिर बिजय नगर शाखा के पौधारोपण कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। प्रसिद्ध मंदिर बाड़ी माता की देख-रेख में एक गौशाला भी चलती है, जिसमें लगभग आधा किलो मीटर रास्ते पर शाखा के प्रधान एवं कार्यकारिणी की उपस्थिति में पौधारोपण किया जा रहा है। उसके बाद ग्रामीण शाखा रायला के पौधारोपण कार्यक्रम में शामिल हुए, जहाँ पौधारोपण किया गया। तबतक शाम के 5 बजकर 30 मिनट हो चुके थे। शाम के 6 बजे हम भीलवाड़ा में अपने भारत विकास परिषद् के कार्यालय में पहुँचे। वहाँ पर स्वामी विवेकानन्द जी की प्रतिमा का अनावरण किया। इस कार्यक्रम में प्रान्तीय कार्यकारिणी के द्वारा निर्णय लिया गया कि प्रान्त में स्वामी विवेकानन्द की 15 और प्रतिमाएँ स्थापित की जायेंगी।

शाम को भीलवाड़ा शहर की चारों शाखाओं के संयुक्त तत्वावधान में परिषद् स्वर्ण जयन्ती मनाई गई, जिसमें बच्चों को सम्मानित किया गया। दूसरी संस्थाओं सहित अपने वरिष्ठ सदस्यों को भी सम्मानित किया गया, जो भारत विकास परिषद् की चहुँमुखी उन्नति के लिए प्रयासरत रहे। रात्रि 12 बजे वाल्वो बस से प्रातः 9 बजे मैं दिल्ली पहुँचा। स्वर्ण जयन्ती वर्ष में राजस्थान मध्य का यह सुहाना सफर नये सुखद अध्याय के साथ सम्पन्न हुआ।

14 जुलाई, 2013 को पश्चिमी उत्तर प्रदेश प्रान्त द्वारा आयोजित परिषद् स्वर्ण जयन्ती एवं स्वामी विवेकानन्द उत्तर जन्म शताब्दी समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में सम्मिलित हुए जिसमें प्रान्त की सभी शाखाओं की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया और प्रान्त द्वारा गणमान्य व्यक्तियों को सम्मानित किया गया। शाम 6 बजे दिल्ली उत्तर प्रान्त की गुजरांवाला शाखा के आतिथ्य में दिल्ली यूनिवर्सिटी के खालसा कॉलेज के सभागार में परिषद् स्वर्ण जयन्ती कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें मुझे सम्मिलित होने का अवसर मिला जिसमें मुख्य अतिथि पंजाब केसरी के ‘वरिष्ठ नागरिक केसरी क्लब’ की चेरपर्सन श्रीमती किरण चोपड़ा थीं। उन्होंने परिषद् के कार्यक्रमों एवं प्रकल्पों की सराहना करते हुए कहा कि ऐसी संस्थाओं की अपने देश में बहुत जरूरत है। और हम सभी को मिलकर देश की हित में कार्य करना चाहिए। प्रशान्त विहार शाखा ने अग्रवाल भवन में स्वर्ण जयन्ती समारोह एवं पारिवारिक मिलन का भव्य आयोजन किया।

21 जुलाई, 2013 को अवध प्रदेश के आतिथ्य में लखनऊ में स्वर्ण जयन्ती कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में मुझे सम्मिलित होने का अवसर मिला। इस अवसर पर प्रान्त द्वारा केन्द्रीय एवं प्रान्तीय तथा अनेक गणमान्य व्यक्तियों को सम्मानित किया गया।

सभी को परिषद् स्वर्ण जयन्ती के अवसर पर बहुत-बहुत बधाई और हम सब मिलकर इसी तरह कार्यक्रम करते रहें और देश का सर्वांगीण विकास होता रहे।

(Niti: Sep., 2013)

उत्तराखण्ड में प्राकृतिक आपदा के लिये भारत विकास परिषद् का एक करोड़ रुपये का संकल्प
नई दिल्ली, 23 जून, 2013 : उत्तराखण्ड के विभिन्न भागों में आई प्राकृतिक आपदा में राहत और पुर्नस्थापन पर विचार करने के लिये भारत विकास परिषद् के केन्द्रीय पदाधिकारियों की एक बैठक भारत विकास परिषद् भवन, दिल्ली में सम्पन्न हुई। इसमें इस आपदा से प्रभावित व्यक्तियों एवं क्षेत्रों के प्रति हार्दिक सहानुभूति प्रकट की गई तथा बड़े पैमाने पर राहत और पुर्नस्थापन कार्य में योगदान देने का निर्यण लिया गया। इसके लिए कुल मिलाकर एक करोड़ रुपये व्यय करने का संकल्प लिया गया है। परिषद् ने अपने वर्तमान कोषों में से 25 लाख रुपये की राशि आवंटित की है और शेष 75 लाख रुपये देश भर में फैली 1200 शाखाओं एवं उनके सदस्यों से एकत्र किया जायेगा। परिषद् ने अपने सभी सदस्यों से इस हेतु परिषद् द्वारा बनाये गये उत्तराखण्ड प्राकृति आपदा राहत कोष में उदारता पूर्वक सहयोग देने की अपील की है। यह राशि परिषद् के सदस्य अपने शाखाओं के माध्यम से दे सकते हैं अथवा परिषद् के केन्द्रीय कार्यालय में सम्पर्क कर परिषद् के बैक खाता में जमा कर सकते हैं। परिषद् ने यह निर्णय लिया है कि आपदा से प्रभावित क्षेत्रों में पुर्नस्थापन कार्य पर विशेष जोर देगी, जिनमें स्कूलों, चिकित्सा केन्द्रों और तीर्थ यात्रियों के लिये आवास इत्यादि की व्यवस्था की जायेगी तथा आपदा से प्रभावित क्षेत्रों में, आर्थिक रूप से पिछड़े लोगों के लिए आवास का निर्माण, पुनर्निमार्ण और जीर्णोंद्धार का कार्य किये जायेंगे। यह सूचना परिषद् के राष्ट्रीय महामंत्री श्री सुरेन्द्र कुमार वधवा ने दी।


Appeal to donate generously for cloudburst and flash-floods affected brethren in Uttrakhand and Himachal Pradesh

       

Extensive devastation has been caused due to cloudbursts and flash-floods in the States of Uttrakhand and Himachal Pradesh.  A large number of people have died and property worth crores of rupees has been damaged. The situation in Kedar Nath area is very critical and grim and the worst in the living memory. A large number of affected people have been moved to the relief camps.  

As a part of our contribution in relief, Branches of Bharat Vikas Parishad in Uttrakhand & Himachal Pradesh have already initiated relief work in these areas by providing medicines, food, clothing and shelter to the victims of the floods by organizing relief camps.  

However, this human tragedy and national problem needs help from each one of us. We earnestly appeal to you  to contribute whole-heartedly to mitigate the sufferings of affected brethren.  

You are requested to kindly send your donations by cheque / demand draft in favour of “Bharat Vikas Parishad” payable at Delhi or you can deposit the amount in our bank Account, as per details given below, under intimation to us.

A/C Name: Bharat Vikas Parishad                  
Bank: Syndicate Bank Pitampura, Delhi-110034
A/C No. 90962160000020
IFSC /RTGS Code: SYNB0009096

The donations are eligible for Income Tax exemption under section 80-G of Income Tax Act. The names of donors who donate Rs.1,000/- or more will find place on the website and also in our monthly magazine NITI.

- S.K. Wadhwa, National Secretary General

Postal Address:
Bharat Vikas Parishad, Bharat Vikas Bhawan,
BD Block, Behind Power House, Pitampura, DELHI-110034


FINANCIAL AID FOR THE PURCHASE OF MACHINERY, EQUIPMENTS ETC. FOR SERVICE PROJECTS ( Rs. 50 Lakhs in 50th Year of BVP)
It gives me great pleasure to communicate that Apex Body in its meeting held on 7th April 2013, has decided to sanction and distribute financial aid to the tune of ` 50 lakhs during the current Golden Jubilee year 2013-14. The funds will be sanctioned/ disbursed on the basis of project report submitted for service projects being run by Bharat Vikas Parishad Branch/Prant/Trust. The following rules will be applicable for sanction and utilization of assistance:-

1. Applicant Branch/Trust/Prant is running service project in the building owned by it or taken by it on lease.

2. Fixed Equipment (s) as required for such project but the applicant unit does not have the required financial resources for the purchase of such equipment( s). It should be noted very clearly that this assistance will not be sanctioned for consumable, recurring or petty items

3. Photostat copies of documents of land and building, financial statements and details of bank account for the last two years must be enclosed with the application.

4. After the sanction of grants-in-aid the equipment will be purchased in the name of Bharat Vikas Parishad Central Office, Delhi and cheque(s) payable at par will be issued by the Central Office in the name of the supplier.

5. The cheque for payment will be issued after receipt of original bill in Central Office along with photos of equipments or fixed items. The bill should be duly verified by the concerned Office Bearer of the Branch/Trust that the said equipments or fixed items have been installed as per details given in the bill.

6. Purchase order should be placed only after procuring proper quotations from at-least two or three firms and comparative chart and decision taken along with Proforma invoice should be sent to the Central Office for due clearance of the centre before placing the order.

7. Equipments purchased from such assistance will be the property of Bharat Vikas Parishad Central Office and will not be changed or disposed off without due prior permission from the Central Office of the Parishad.

8. Central Office will communicate the information to concerned Zones and Prant’s General Secretary also and it will be their duty to verify the proper installation of equipments and proper utilization of assistance.

9. In case of equipments related to Hospitals. Pathology Lab. or Physiotherapy Centre, name and full description of Machine along with the name of Company/supplier should be sent to the Central Office and Central Office will finalize the amount and terms and conditions.

10. As a motivation to promote permanent project during Golden Jubilee year it has also been decided to grant financial assistance ranging from `1 lakh to 2 lakhs for construction of building if a new land (minimum 100 square meters) is purchased during the year for developing permanent project on that land.

11. The sanctioned grant will have to be utilized before 28th Feb 2014. Application for such project (s) must reach Central Office at the earliest and latest by 30th Sept.2013.

- S.K. Wadhwa, National Secretary General

Click here for funds released during 2011-12


  News During 2013-14 2012-13 2011-12 2010-11 2009-10 2008-09 2007-08
                 

 

                                                                                                                                         top         Home 

 

Copyright©  Bharat Vikas Parishad . All Rights Reserved